Himachal Pradesh
13th Legislative Assembly ( Vidhan Sabha )
  • प्रैस वार्ता

    15/03/2022

       आज हिमाचल प्रदेश की तेहरवीं विधान सभा का चौदहवां तथा वर्तमान सरकार का 5वां अन्तिम बजट सत्र अपेक्षा अनुरूप पूर्ण  सफलता के साथ सम्पन्न हुआ है। यह सत्र माननीय राज्यपाल  महोदय हिमाचल प्रदेश श्री राजेन्द्र विश्वनाथ आर्लेकर के अभिभाषण के साथ 23 फरवरी, 2022 को आरम्भ हुआ तथा आज 15 मार्च, 2022 को 15 बैठकों के साथ  सम्पन्न हुआ।  हांलाकि इस सत्र में 16 बैठकें प्रस्तावित थी लेकिन दोनों पक्षों की सहमति से महाशिवरात्री पर्व की वजह से 28 फरवरी को सत्र आयोजित नहीं किया गया  तथा 2 मार्च को सत्र निर्धारित समय से पूर्व एक घंटा पहले  10 बजे आरम्भ किया गया।   3 मार्च  तथा 10 मार्च गैर सरकारी कार्य दिवस के लिए निर्धारित किये गये थे।  4 मार्च को माननीय मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर ने वर्तमान सरकार का 5वां बजट पेश किया। 26 फरवरी तथा 5 मार्च, 2022 को शनिवार के दिन भी अविलम्ब सत्र का आयोजन किया गया।  इस माननीय सदन की कार्यवाही लगभग 76 घंटे चली तथा सदन की उत्पादकता 101 प्रतिशत रही ।

       हिमाचल प्रदेश विधान सभा अपनी गरिमा, मर्यादा तथा उच्च  परंपराओं के लिए शुरू से ही पूरे भारतवर्ष में जानी जाती है। सत्र के दौरान प्रश्नकाल भी हुए नियमों के तहत सार्थक तथा उपयोगी चर्चाएं भी हुई। इस बजट सत्र की विशेषता यह रही कि छिटपुट गतिरोध को छोड़कर सत्र की कार्यवाही अविलम्ब चलती रही जो इस माननीय सदन की गरिमा तथा मर्यादा को सशक्त तथा माननीय सदस्यों को सदन के प्रति गम्भीरता को दर्शाता है।

       सत्र के प्रथम दिन माननीय राज्यपाल महोदय का अभिभाषण प्रस्तुत हुआ तथा राज्यपाल महोदय के अभिभाषण पर धन्यवाद प्रस्ताव पर चर्चा चार दिन (दिनांक 24 फरवरी से 2 मार्च, 2022) हुई जिसमें कुल 42 सदस्यों (पक्ष-21, प्रतिपक्ष-19, सी पी आई (एम)-1 व निर्दलीय-1 )  ने भाग लिया  तथा चर्चा 14 घण्टे 16 मिनट तक चली, चर्चा उपरान्त माननीय मुख्य मन्त्री ने दिनांक 2 मार्च, 2022 को  (1 घण्टे 07 मिनट) चर्चा का उत्तर दिया  तथा पारण हुआ। दिनांक 26 फरवरी, 2022 को माननीय मुख्य मन्त्री महोदय ने अनुपूरक बजट भी प्रस्तुत किया ।

       दिनांक 4 मार्च, 2022 को माननीय मुख्य मन्त्री द्वारा बजट अनुमान वित्तीय वर्ष 2022-2023 प्रस्तुत किया । बजट अनुमानों पर सामान्य चर्चा चार दिन (5 मार्च से 9 मार्च, 2022) हुई जिसमें कुल 34 सदस्यों (पक्ष-25, प्रतिपक्ष-22, सी पी आई (एम)-1 व निर्दलीय-1 ) ने भाग लिया एवं चर्चा 1 7 घण्टे 14 मिनट तक चली, चर्चा उपरान्त माननीय मुख्य मन्त्री ने दिनांक 11 मार्च, 202 2  को 1 घण्टे 10  मिनट चर्चा का उत्तर  दिया ।

       दिनांक 14 मार्च, से आज तक वजट की अनुदान मांगों पर विपक्ष ने अपने-अपने कटौती प्रस्ताव प्रस्तुत किए एवं सार्थक चर्चा की, चर्चा उपरान्त मुख्य मन्त्री /मन्त्रियों ने अपनी - अपनी मांगों से सम्बन्धित उत्तर दिए एवं मांगे पारित हुई। तदोपरान्त शेष मांगें  गिलोटिन द्वारा सभी पूर्ण रूप से पारित हुई एवं विनियोग विधेयक पर विचार विमर्श एवं पारण हुआ ।

       सत्र में जनहित के महत्वपूर्ण विषयों पर प्रश्नों के माध्यम से चर्चा हुई व सुझाव दिए गये जिनके दूरगामी परिणाम होंगे। इस सत्र के दौरान  कुल 617 तारांकित तथा  362 अतारांकित प्रश्नों की सूचनाओं पर सरकार द्वारा उत्तर उपलब्ध करवाए गए।

      सत्र में नियम-62 के अन्तर्गत 1 विषय तथा सत्र में दो दिन गैर-सरकारी सदस्य दिवस निर्धारित थे जिस पर माननीय सदस्यों ने  नियम 101 के अन्तर्गत 4 गैर-सरकारी संकल्प प्रस्तुत किए । जिन पर माननीय सदस्यों ने सार्थक चर्चा की । इसमें से दो संकल्प चर्चा उपरान्त सदस्यों द्वारा सदन से वापिस लिये गये। एक संकल्प पिछले सत्र से प्रस्तुत था उस पर भी माननीय सदस्यों ने चर्चा की और एक संकल्प का उत्तर माननीय मन्त्री द्वारा अगले सत्र में दिया जायेगा।

       इसके अतिरिक्त 5 सरकारी विधेयक भी सभा में पुर:स्थापित एवं पारित किये गए। इसमें से एक विधेयक प्रवर समिति को अनुशंसा हेतु प्रस्तुत था जिस पर समिति ने अपना प्रतिवेदन भी तैयार किया। सदन द्वारा यह विधेयक चर्चा उपरान्त पास किया गया। नियम-324 के अन्तर्गत विशेष उल्लेख के माध्यम से 13 विषय सभा में उठाये गये तथा सरकार द्वारा इस सम्बन्ध में वस्तुस्थिति से अवगत करवाया गया ।

       सभा की समितियों ने भी 54 प्रतिवेदन सभा में उपस्थापित किये । इसके अतिरिक्त मन्त्रियों द्वारा अपने-अपने विभागों से सम्बन्धित दस्तावेज भी सभा पटल पर रखे  गए तथा महत्वपूर्ण वक्तव्य भी दिये गए ।

       इस सत्र के दौरान माननीय सदस्यों द्वारा पूर्व मे सदस्य रहे स्वर्गीय श्री कश्मीरी लाल जोशी व श्री चमन लाल पूर्व सदस्यों को सदन में श्रद्धांजलि दी गई जिनका पिछले सत्र के बाद निधन हुआ था  मैं अपनी तथा सदन की ओर से उन सभी परिवारों के प्रति गहरी संवेदना प्रकट करता हूं जिन्होंने अपनों को खोया है। मैं ईश्वर से सभी दिवंगत आत्माओं की शांति की प्रार्थना करता हूं।

       प्रश्नों से सम्बन्धित जो सूचनाएं माननीय सदस्यों से प्राप्त हुई है वह मुख्यत: बढ़ती मंहगाई व बेरोजगारी, सड़कों की दयनीय स्थिति, स्वीकृत सड़कों की  DPR's, प्रदेश में महाविद्यालयों, स्कूलों, स्वास्थ्य संस्थानों इत्यादि का उन्नयन एवं विभिन्न विभागों में रिक्त पदों की पद्पूर्ति, पर्यटन, उद्यान, पेयजल की आपूर्ति, युवाओं में बढ़ते नशे के  प्रयोग की रोकथाम, बढ़ते अपराधिक मामलों व सौर ऊर्जा, परिवहन व्यवस्था, NPS तथा आऊट सोर्स कर्मचारियों पर आधारित है। इसके अतिरिक्त माननीय सदस्यों ने प्रश्नों के माध्यम से अपने-अपने निर्वाचन क्षेत्रों  से सम्बन्धित मुख्य मुद्दों को भी उजागर किया गया।

       विधान सभा सचिवालय में प्रवेश पाने हेतु थर्मल स्क्रीनिंग की जाती रही। इस बार आगंतुकों को भी दर्शक दीर्घा में बैठने हेतु SOP's की परिपालना करते हुए पास जारी किये गये। इसके अतिरिक्त माननीय मुख्यमंत्री तथा मंत्रीपरिषद से मिलने आये लोगों को भी पास जारी किये गये ।उनकी सुविधा हेतु विधान सभा सचिवालय की ओर से एक सम्पर्क अधिकारी को भी तैनात किया गया था ताकि उन्हें माननीय मुख्यमंत्री तथा मंत्रियों से मिलने में कोई असुविधा न हो। इस बार Phased Manner में पास जारी किये गये  तथा भीड़ कम करने के लिए सत्र के कार्यों से जुड़े अधिकारियों /कर्मचारियों के पास में भी कटौती की गई थी।

       सत्र के दौरान मेरा भरसक प्रयास रहा कि सत्र की कार्यवाही सौहार्दपूर्ण वातावरण में चले।

       इसके लिए  मैं  माननीय मुख्य मन्त्री , नेता प्रतिपक्ष का धन्यवाद करता हूं जिनकी वजह से इस माननीय  सदन  की कार्यवाही को सुचारू रूप से संचालित  कर पाये।

      श्री परमार ने माननीय संसदीय कार्यमन्त्री, मुख्य सचेतक तथा उप मुख्य सचेतक का भी धन्यवाद किया जिन्होंने सदन में दोनों पक्षों के बीच बेहतर समन्वय बनाए रखा। उन्होंने अपने सहयोगी माननीय उपाध्यक्ष, विधान सभा व सभापति तालिका के सदस्यों का जिन्होंने कार्यवाही के संचालन में बहुमूल्य सहयोग दिया का भी धन्यवाद किया।

       श्री परमार ने माननीय सदन के समस्त सदस्यों का भी आभार व्यक्त करता हूं जिन्होंने इस सदन की समय सीमाओं और नियमों का पालन करते हुए अपने-अपने विषयों को सदन में उठाया ।

      उन्होंने राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों/कर्मचारियों तथा विधान सभा के समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों एवं के सहयोग के लिए उनका आभार करता हूं जिन्होंने इस सत्र के लिए दिन-रात कार्यकर इस सत्र से सम्बन्धित कार्य को समयबद्ध तरीके से निपटाने में पूर्ण सहयोग दिया ।

       श्री परमार ने प्रिंट एवं इलैक्ट्रोनिक मीडिया के सभी पत्रकार मित्रों  का भी धन्यवाद करता हूं जिन्होंने विधान सभा की कार्यवाही को प्रदेश के जन-जन तक पंहुचाने में अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका निभाई ।

       श्री परमार ने माननीय मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर जी ने वर्तमान सरकार का लगातार पांचवा तथा जन हितैषी बजट पेश किया जिसकी मैं उन्हें हार्दिक बधाई दी। देवभूमि हिमाचल मेलों व त्यौहारों का प्रदेश है जिसके कारण हमारा प्रदेश देश-विदेश में विख्यात है। 18 मार्च, 2022 को  दो दिन बाद रंगों का त्यौहार होली मनायी जायेगी मैं आप सभी को अपनी तथा इस माननीय सदन की ओर से सभी प्रदेशवासियों  को अग्रिम बधाई दी।

    (हरदयाल भारद्वाज),
    उप-निदेशक,
    लोक संपर्क एवं प्रोटोकॉल, 
    हि0प्र0 विधान सभा ।