Himachal Pradesh
14th Legislative Assembly (Vidhan Sabha)
  • प्रैस वार्ता

    13/08/2022

       हिमाचल प्रदेश की तेहरवीं विधान सभा का पंद्रहवां सत्र जोकि मानसून सत्र के रूप में आयोजित किया  गया है आज पूर्ण सफलता के साथ सम्पन्न हुआ है। यह मानसून सत्र 10 अगस्त, 2022 से आरम्भ हुआ तथा इस मानसून सत्र के दौरान कुल 04 बैठकें आयोजित की गई।  इस माननीय सदन की कार्यवाही 22 घंटे 40 मिनट चली।

       पिछले पांच वर्षों में अभी तक तेरहवीं विधान सभा की कुल 140 बैठकें आयोजित की गई हैं जो इस बात का परिचायक है कि माननीय सदस्य लोकतान्त्रिक प्रणाली में अटूट विश्वास रखते है तथा हिमाचल प्रदेश विधान सभा की उच्च  परंपराओं तथा गरिमा का बेहद सम्मान करते हैं

       मैं स्मरण कराना चाहता हूं कि कोविड़ -19 की बजह से वर्ष 2020 का शीतकालीन सत्र हमें स्थगित करना पड़ा था बावजूद इसके हम 140 बैठकें आयोजित करने में कामयाब हुए है जिसका श्रेय हिमाचल प्रदेश सरकार के समस्त अधिकारियों व कर्मचारियों तथा विशेष रूप से विधान सभा सचिवालय के अधिकारियों व कर्मचारियों को जाता है जो सीधे तौर पर इसके आयोजन से जुड़े हैं।

       इन 5 वर्षों में कुल 10513 सूचनायें प्रश्नों के रूप में माननीय सदस्यों से प्राप्त हुई है जिनमें से 7414 तारांकित तथा 3099 अतारांकित प्रश्न प्राप्त हुए जिन्हें आगामी कार्यवाही हेतु सरकार को प्रेषित किया गया। इन 5 वर्षों में कुल 77 सरकारी विधेयक पूरस्थापित किये गये तथा जिनमें से 69 का पारण किया गया। इन पांच वर्षों में सभा की समितियों द्वारा कुल 683 प्रतिवेदन सभा में स्थापित किये गये।

       मै बताना चाहूंगा कि  पिछले 3 वर्षों में  कोरोना महामारी ने पूरे विश्व को हिला कर रख दिया था हमारा देश व प्रदेश भी उसमें शामिल था। बेहद संकटपूर्ण समय के बावजूद भी हमने एक शीतकालीन सत्र को छोड़कर सभी सत्र आयोजित किये। प्रश्न भी हुए, चर्चा भी हुई, बिलों का पारण भी हुआ लेकिन कोविड़ -19 के लिए तय नियमों व शर्तों का अक्ष:-रक्ष: पालन किया गया।  हर तरह की सावधानी बरती गई, सारी व्यवस्थायें कोरोना PROTOCOL के हिसाब से सुनिश्चित की गई जहां विधान सभा परिसर में प्रवेश पाने के लिए थर्मल स्क्रीनिंग से गुजरना पड़ा वहीं कोरोना टेस्ट के लिए डॉक्टर व पैरा मैडिकल स्टॉफ की टीम तैनात रही, आइसोलेशन वार्ड स्थापित किया गया, ऐम्बुलैंस की व्यवस्था परिसर में की गई तथा विधान सभा सचिवालय परिसर, सदन तथा मुख्य द्वारों को पूरी तरह से सैनिटाईज किया गया ताकि Zero Error का भी सन्देह न रहे। इसके अलावा विधायकों की सीटों को पोलिकार्बोनेट शीटस से पूथक किया गया तथा सभी को फेस मास्क तथा सामाजिक दूरी बनाए रखने के लिए प्रेरित किया गया।

       मैं सदन के नेता एवं माननीय मुख्यमंत्री श्री जयराम ठाकुर को बधाई भी देना चाहता हूं तथा धन्यवाद भी करता हूं कि उनके कदम इस भीषण महामारी से ढगमगाये नहीं, उन्होंने बड़ी हिम्मत के साथ इस विनाशकारी महामारी का सामना करने के लिए उच्च प्रशासनिक व बेहतरीन स्वास्थ्य ढ़ाचे को मजबूत किया तथा समय -समय पर डॉक्टरों, पैरामेडिकल स्टाफ तथा अन्य Front Line Worker की उन्होंने हौसला बजाही की तथा उनके नेतृत्व में हमारा प्रदेश जनमानस के जीवन को बचाने वाले टीकाकरण में पूरे देश में अब्बल रहा।

       इन पांच वर्षों में हिमाचल प्रदेश विधान सभा कई कार्यक्रमों के आयोजन की गवाह बनी। वर्ष 2018 में विधान सभा में राष्ट्रमण्डल संसदीय सम्मेलन जोन-IV का आयोजन किया गया। इस कार्यक्रम में लोक सभा की तत्कालीन माननीय अध्यक्षा श्रीमती सुमित्रा महाजन जी विशेष रूप से उपस्थित रही।  सितम्बर, 2021 में हिमाचल प्रदेश राज्य स्वर्णिम वर्ष के सुअवसर पर भारत के माननीय राष्ट्रपति श्री राम नाथ कोविंद ने इस माननीय सदन को सम्बोधित किया था।

       मैं आपको स्मरण कराना चाहता हूं 100 वर्ष पूर्व सितम्बर, 1921 को शिमला में  अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारियों का पहला सम्मेलन आयोजित किया गया था। मुझे यह बताते हुए अत्यन्त प्रसन्नता हो रही है कि उसी सम्मेलन का सहस्त्राब्धि समारोह आयोजित करने का इस विधान सभा को अवसर प्राप्त हुआ तथा इसका आयोजन 16 से 19 नवम्बर , 2021 तक किया गया जिसमें 23 राज्यों की विधान परिषदों तथा विधान सभाओं के पीठासीन अधिकारी शामिल हुए तथा विशेष तौर पर अखिल भारतीय पीठासीन अधिकारियों के सम्मेलन के  चेयरमैन एवं लोक सभा के माननीय अध्यक्ष श्री ओम बिरला जी स्वंय इस सदन में उपस्थित थे व भारत के यशस्वी प्रधानमंत्री श्री नरेद्र दामोदर दास मोदी ने वर्चुअल माध्यम से इस सम्मेलन को सम्बोधित किया था तथा राज्य सभा के उप-सभापति श्री हरिवंश जी तथा केन्द्रीय मंत्री श्री अनुराग ठाकुर भी इस अवसर पर मौजूद थे। इस कार्यक्रम के  आायोजन के लिए हमें माननीय मुख्यमंत्री का भरपूर सहयोग व मार्गदर्शन मिला।

       सत्र के दौरान मेरा भरसक प्रयास रहा कि सत्र की कार्यवाही सौहार्दपूर्ण वातावरण में चले। मैं इसके लिए  अपने आपको सौभाग्यशाली समझता हूं तथा मैं  माननीय मुख्य मन्त्री , नेता प्रतिपक्ष का धन्यवाद करता हूं जिनकी वजह से इस माननीय  सदन  की कार्यवाही को सुचारू रूप से संचालित  कर पाये।

       माननीय संसदीय कार्यमन्त्री, मुख्य सचेतक तथा उप मुख्य सचेतक का भी धन्यवाद करता हूं जिन्होंने सदन में दोनों पक्षों के बीच बेहतर समन्वय बनाए रखा। मैं अपने सहयोगी माननीय उपाध्यक्ष, विधान सभा व सभापति तालिका के सदस्यों का जिन्होंने कार्यवाही के संचालन में बहुमूल्य सहयोग दिया का भी धन्यवाद करता हूं।

       मैं सदन के समस्त सदस्यों का भी आभार व्यक्त करता हूं जिन्होंने इस सदन की समय सीमाओं और नियमों का पालन करते हुए अपने-अपने विषयों को सदन में उठाया तथा इस विधान सभा की ऐतिहासिक उच्च परम्पराओं तथा गरिमा को बनाये रखने में अपना बहुमुल्य योगदान दिया जिसके लिए वे सभी बधाई के पात्र हैं।

       मैं विधान सभा सचिव और समस्त अधिकारियों एवं कर्मचारियों एवं राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों/कर्मचारियों के सहयोग के लिए उनका आभार करता हूं जिन्होंने विषम परिस्थितियों के बावजूद इस सत्र के लिए दिन-रात कार्यकर इस सत्र से सम्बन्धित कार्य को समयवद्ध तरीके से निपटाने में पूर्ण सहयोग दिया।

       मैं  पर्यटन विकास निगम के अधिकारियों तथा कर्मचारियों का भी धन्यवाद करता हूं जिन्होंने सभी के लिए पौष्टिक तथा स्वादिष्ट भोजन की समय-समय पर समुचित व्यवस्था की ।

       मैं आप सभी  प्रिंट एवं इलैक्ट्रोनिक मीडिया के सभी पत्रकार मित्रों  का भी धन्यवाद करता हूं आप सभी ने विधान सभा की कार्यवाही को प्रदेश के जन-जन तक पंहुचाने में अत्यन्त महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

       हम इस वर्ष "आजादी का अमृत महोत्सव" मना रहे हैं। परसों स्वतन्त्रता दिवस है इसकी मैं आप सभी को तथा प्रदेश वासियों को अग्रिम बधाई देता हूं और आशा करता हूं कि सभी प्रदेशवासी अपने-अपने घरों में तिरंगा फहराकर इस महोत्सव को यादगार, चिरंजिवी व अविस्मरणीय बनायेंगे।

       आज वर्तमान सरकार के आखिरी सत्र का आखिरी दिन था जिसका समापन हो चुका है।  मैं सभी माननीय सदस्यों को आने वाले समय के लिए अपनी ओर से हार्दिक शुभकामनायें देता हूं।  आपसे मुलाकात करने का सदैव अभिलाषी रहूंगा।

                     आप सभी का बहुत-बहुत धन्यवाद।

    (हरदयाल भारद्वाज),
    उप-निदेशक,
    लोक संपर्क एवं प्रोटोकॉल, 
    हि0प्र0 विधान सभा ।